पूर्ण संख्या क्या होती है ? परिभाषा, गुणधर्म व उदाहरण सहित।

नमस्कार दोस्तों Vishwa Sewa में आपका स्वागत है आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से यह जानेंगे की पूर्ण संख्या क्या होती है ?,  Purn Sankhya kya hoti hai ?, पूर्ण संख्या किसे कहते है, पूर्ण संख्या क्या होती है in hindi तथा पूर्ण संख्या से सम्बंधित सभी प्रश्नो को हल करेंगे। 


पूर्ण संख्या क्या होती है ? परिभाषा, गुणधर्म व उदाहरण सहित।
पूर्ण संख्या क्या होती है ?



इस आर्टिकल में आप जानेंगे-
  • पूर्ण संख्या की परिभाषा 
  • पूर्ण संख्या के उदाहरण 
  • पूर्ण संख्या के गुण/गुणधर्म 
  • पूर्ण संख्या से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण प्रश्न 
  • मुख्य बिंदु 

पूर्ण संख्या (Whole Number) की परिभाषा   


शून्य को प्राकृत संख्या में जोड़ने पर जो संख्या का समूह हमें प्राप्त होता है उसे पूर्ण संख्या (Whole Number) कहा जाता है। 
उदाहरण :- 0, 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ..........

ध्यान देने वाले कुछ महत्वपूर्ण तथ्य :-
  • सबसे छोटी पूर्ण संख्या शून्य (0) है। 
  • सबसे बड़ी पूर्ण संख्या अनंत (Infinite) है। 
  • सभी प्राकृत संख्या (Natural Number), पूर्ण संख्या है लेकिन सभी पूर्ण संख्या, प्राकृत संख्या नहीं है। कारण यह है की पूर्ण संख्या शुन्य से शुरू होता है जबकि प्राकृत संख्या एक से शुरू होता है। 
  • केवल शून्य ही एक ऐसी पूर्ण संख्या है जिसका कोई पूर्वर्ती (Predecessor) नहीं है। 
  • जबकि सभी पूर्ण संख्याओं का एक परवर्ती (Successor) है। 

पूर्ण संख्या के गुण/ गुणधर्म  (Properties)


पूर्ण संख्याओं के गुणों की वज़ह से हम कई सवालो को बड़ी आसानी से सोल्व कर लेते है। लेकिन हमे यह पता नहीं होता है की आखिर किस प्रॉपर्टी का प्रयोग कर हमने इस सवाल को सोल्व किया। और परीक्षा/प्रतियोगी परीक्षा  में भी यही पूछ दिया जाता है। इसलिए पूर्ण संख्या के गुणधर्म को जानना अत्यंत आवश्यक है। 

पूर्ण संख्या के मुख्यतः पांच गुणधर्म है जो इस प्रकार है -

1. संवृत्त गुण :-



दो पूर्ण संख्या को जोड़ने या गुना करने पर प्राप्तफल भी पूर्ण संख्या ही प्राप्त होता है। 

a) जब हम दो या दो से अधिक पूर्ण संख्याओं को जोड़ते है तो उसका जो योगफल प्राप्त होता है वो भी एक पूर्ण संख्या ही होता है। 

जैसे -  
  • 3+6 = 9 ( यहाँ तीन और छः एक पूर्ण संख्या है और इसका योगफल  नौ भी एक पूर्ण संख्या ही है। )
  • 7+5 = 12
  • 2+6+4+9+8 = 29
b) इसी प्रकार जब हम दो या दो से अधिक पूर्ण संख्या को  गुना करते है तो उसका गुणनफल भी पूर्ण संख्या ही प्राप्त होता है। 

जैसे -
  • 3*6 = 18 ( तीन और छः दोनों पूर्ण संख्या है और इनका गुणनफल 18 भी एक पूर्ण संख्या है। )
  • 4*0 = 0
  • 2*3*6 = 36

2. योग और गुणन में क्रमविनिमेयता 


पूर्ण संख्या के योग और गुणन दोनों ही क्रमविनिमेय है। 

a) पूर्ण संख्या को किसी भी क्रम में जोड़ने पर उसका प्राप्तफल हमे बराबर ही प्राप्त होता है। 

जैसे -
  • 4 + 2 = 2 + 4
  • 3 + 0 = 0 + 3
b) पूर्ण संख्या को किसी भी क्रम में गुना करने पर प्राप्तफाल हमे बराबर ही प्राप्त होता है। 

जैसे -
  • 4 * 2 = 2 * 4
  • 5 * 0 = 0 * 5

3. योग और गुणन का सहचर्य गुण 


पूर्ण संख्याओं को बढ़ते, घटते या किसी भी उलझे क्रम में सजाकर उसका हल करने पर दो युग्मों का प्राप्तफल बराबर ही प्राप्त होता है। 

a) पूर्ण संख्या के युग्मो को जोड़ने पर प्राप्तफल सामान प्राप्त होता है। 

जैसे-
  • (3+4)+5 = 4+(5+3)
  • 0+(4+2) = (0+2)+4
b)  पूर्ण संख्या के युग्मो को गुना करने पर गुणनफल सामान ही प्राप्त होता है। 

जैसे -
  • (2*3)*5 = (5*3)*2
  • 0*(9*8) = 9*(0*8)

4. योग और गुणन का वितरण गुण 


NOTE:- अक्सर हम इस वितरण गुण का प्रयोग कर कई बड़े-बड़े आंकड़ों व कठिन सवालों वाले प्रश्नो को सरल कर बड़ी ही आसानी से उनका उत्तर दे देते है। 

बड़े आकंड़ो वाले पूर्ण संख्या को योग और गुणन का प्रयोग कर उसे सरल किया जाता है। आइए विस्तार से समझते है -

जैसे -

  • 5*25 इसे गुना करने में थोड़ा वक्त लग सकता है पर इसे [5*(20 + 5) = (5*20) + (5*5 ) = 125 ] इस प्रकार आसानी से हल किया जा सकता है। 
  • 126*55 +126*45 
=126* (55+45)
=126*100
=12600

इस प्रकार और भी कई कठिन और लम्बे-लम्बे आंकड़ों का हल किया जा सकता है। 

5. योग और गुणन का तत्समक अवयव् 


शुन्य को पूर्ण संख्या का योज्य तत्समक (Additive nature) कहा जाता है। 

  • 0+5=5
  • 2525+0= 2525
 एक को पूर्ण संख्या का गुणात्मक तत्समक (Multiplicative nature) कहा जाता है। 

  • 1 * 25 =25 
  • 1 * 96 = 96 

पूर्ण संख्या से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न 


  1. 1001 तथा 101 से पहले आने वाली तीन पूर्ण संख्या क्या होती है ?
  2. सबसे छोटी और सबसे बड़ी पूर्ण संख्या कौन है ?
  3. 63 और 75 बिच आने वाली सभी पूर्ण संख्याओं को बताये। 
  4. पूर्ण संख्या के सहचर्य गुण द्वारा इसे हल करे - 125 * 125 , 240 *360 
  5. 0 से पहले आने वाली पूर्ण संख्याओं (पूर्ववर्ती )को  लिखे। 

हमने सीखा 


  • शून्य को प्राकृत संख्या में जोड़ने पर जो संख्या का समूह हमें प्राप्त होता है उसे पूर्ण संख्या (Whole Number) कहा जाता है। 
  • पूर्ण संख्या के पांच गुणधर्म होते है-
  1. संवृत्त गुण
  2. योग और गुणन में क्रमविनिमेयता 
  3. योग और गुणन का सहचर्य गुण 
  4. योग और गुणन का वितरण गुण 
  5. योग और गुणन का तत्समक अवयव् 

आशा करता हूँ की पूर्ण संख्या से सम्बंधित सभी डाउट क्लियर हो गए होंगे। यदि अभी भी कोई शंका है तो उसे कमेंट बॉक्स में अवश्य पूछे। 

यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आया तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य share करे। 

धन्यवाद!

Madan Mitra: Age, Education, Family, Political career, Biography

Madan Mitra: Age, Education, Family, Wife, Son, Daughter, Assets, Political career, Biography


मदन मित्र एक सीनियर और मशहूर नेता है। जो अपने राजनितिक जीवन के शुरुआती दौर में इंडियन नेशनल कांग्रेस (INC) के सदस्य थे। परन्तु जब तृणमूल कांग्रेस की स्थापना 1998 में हुई तो वह तृणमूल कांग्रेस के सदस्य बन गए और तब से आज तक अपने पार्टी को अपना सहयोग दे रहे है। उनके कार्यकाल के दौरान उन्हें कई उच्च पदवी भी प्राप्त हुई। जिसके बारे में आगे चर्चा करेंगे। 

Madan Mitra: Age, Education, Family, Wife, Son, Daughter, Assets, Political career, Biography
Madan Mitra ©anandbazar.com



मदन मित्र 2021 के पश्चिम बंगाल के विधान सभा चुनाव में कमरहाटी विधानसभा  क्षेत्र से चुनाव लड़े और उन्हें जनता का बहुमत प्राप्त हुआ। 

इस आर्टिकल में आप जानेंगे-
  • मदन मित्र का परिचय 
  • मदन मित्र की शिक्षा 
  • मदन मित्र की उम्र 
  • मदन मित्र का परिवार 
  • मदन मित्र की पत्नी तथा बच्चे 
  • मदन मित्र का राजनितिक करियर 
  • मदन मित्र की नेट वर्थ और एसेट्स 
  • मदन मित्र की सोशल प्रोफाइल्स 

मदन मित्र का परिचय | Introduction 


मदन मित्र का जन्म कोलकाता के भवानीपुर में 3 दिसंबर 1954 को हुआ था। उनके पिता का नाम स्वर्गीय श्री ज्योत्स्ना कुमार मित्र है। 

संक्षिप्त परिचय 


  • पूरा नाम (Full name)- मदन मित्र 
  • जन्म स्थान (Birthplace)- कोलकाता के भवानीपुर में 
  • जन्म तिथि (Date of birth)- 3 दिसंबर 1954 
  • उम्र (Age)- 66 वर्ष (2021 के अनुसार)
  • कद (Height)- 5'5" (लगभग)
  • पिता का नाम (Father's name)-  स्वर्गीय श्री ज्योत्स्ना कुमार मित्र 
  • माता का नाम (Mother's name)- ज्ञात नहीं

मदन मित्र की शिक्षा | Education 


मदन मित्र ग्रेजुएट (स्नातक) है। उन्होंने शुरुआती शिक्षा 'साउथ सबअर्बन स्कूल' (कोलकाता) से प्राप्त की तथा बी.ए आसुतोष कॉलेज (जो की कलकत्ता यूनिवर्सिटी के अंतरगर्त आता है।) से 1976 में की। आपकी जानकारी के लिए बता दे की मदन मित्र अपने कॉलेज के दिनों से ही नेतागिरी करनी शुरू कर दी थी। 
  • शुरुआती शिक्षा 'साउथ सबअर्बन स्कूल' कोलकाता से 
  • बी.ए आसुतोष कॉलेज से 1976  में 

मदन मित्र का परिवार | Family 


मदन मित्र की पत्नी का नाम 'अर्चना मित्र' है। उनके दो लड़के  भी है। जिनका नाम 'स्वरूप मित्र' तथा 'सुभोरुप मित्र' है। 

  • पत्नी का नाम (Wife's name)- अर्चना मित्र 
  • पुत्र (Sons)- स्वरुप मित्र तथा सुभोरोप मित्र 

मदन मित्र का राजनितिक करियर | Political career 


जैसा की मैंने आपको शुरू में ही बताया था की मदन मित्र ने अपने राजनितिक करियर की शुरुआत अपने कॉलेज के दिनों में ही शुरुआत की थी। जब वह आसुतोष कॉलेज में थे तब वह विद्यार्थी परिषद् के प्रधान/अध्यक्ष बन गए। 

उसके बाद मित्र कोलकाता साउथ के भारतीय युवा कांग्रेस के अध्यक्ष/प्रधान बने। 1990 में उन्हें पश्चिम बंगाल के भारतीय युवा कांग्रेस के महासचिव के रूप में नियुक्त किया गया। 

1998 में वह मोड़ आया जब मदन मित्र ने अपने राजनितिक दल को परिवर्तन किया और अपने कॉलेज की सहपाठी 'ममता बनर्जी' द्वारा 1998 में स्तापित की गई नई पार्टी आल इंडिया तृणमूल कांग्रेस (AITC) में शामिल हो गए। 


Madan Mitra: Age, Education, Family, Wife, Son, Daughter, Assets, Political career, Biography
Mitra with Mamta ©Facebook: @MadanMitraofficial


'ममता बनर्जी' के बारे में और जानने के लिए - क्लिक करे 

मदन मित्र को पार्टी में तृणमूल कांग्रेस का महासचिव बनाया गया तथा इस तरह उन्हें पार्टी कई महत्वपूर्ण पद दिए गए। 

2011 में मदन मित्र ने पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में कमरहाटी विधान सभा क्षेत्र से चुनाव लड़े और जनता का उन्हें फुल सपोर्ट मिला। और उन्हें बहुमत प्राप्त हुई। तब उन्हें राज्य के खेल और परिवहन मंत्रालय का कार्यभार सौपा गया। हलाकि किसी घोटाले में मदन मित्र का नाम आ जाने पर उन्होंने इन मंत्रालयों से स्तीफ़ा दे दिया। 

2016 के बंगाल के विधान सभा चुनाव में उन्हें अपने ही क्षेत्र से हार का सामना करना पड़ा। परन्तु 2021 में उन्होंने कमरहाटी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा और इस केवल उन्हें ही नहीं बल्कि उनके दल को भी एक धमाकेदार जीत मिली। 

मदन मित्र के नेट वर्थ और एसेट्स | Net worth Assets 


मदन मित्र का नेट वर्थ लगभग 2.6 करोड़ है तथा उनका एसेट्स लगभग 2.6 + करोड़ है। 
  • Net worh - ~2.6 crores
  • Assets - ~2.6+ crores

मदन मित्र की सोशल प्रोफाइल्स | Social Profiles 

इन नेताओं के बारे में भी पढ़े-

Sujata Mondal Khan: Age, Education, Husband, Biography

Sujata Mondal Khan: Age, Education, Husband, Political career, Biography 


सुजाता मंडल खान पश्चिम बंगाल की एक चर्चित राजनेत्री है। जिन्होंने अभी हाल ही में पश्चिम बंगाल के विधान सभा चुनाव से पहले आल इंडिया तृणमूल कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गयी। हलाकि उनके पति सौमित्र खान भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्च के नेता है और वह पश्चिम बंगाल के बिशुनपुर लोकसभा क्षेत्र से संसद भी है। 

Sujata Mondal Khan: Age, Education, Husband, Biography
Sujata Mondal Khan ©opindia.com


तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने के बाद सुजाता मंडल पश्चिम बंगाल के आरामबाग विधान सभा क्षेत्र से बीजेपी के प्रतिनिधित्व मधुसूदन बाग के  विपक्ष में चुनाव लड़ रही है। 

इस आर्टिकल में आप जानेंगे-
  • सुजाता मंडल खान का परिचय 
  • सुजाता मंडल खान की शिक्षा 
  • सुजाता मंडल खान की उम्र 
  • सुजाता मंडल खान की शारारिक उपस्थिति
  • सुजाता मंडल खान के पति 
  • सुजाता मंडल खान का राजनितिक जीवन 
  • सुजाता मंडल खान का नेट वर्थ 
  • सुजाता मंडल खान के सोशल प्रोफाइल्स 

सुजाता मंडल खान का परिचय | Introduction 


सुजाता मंडल खान का जन्म पश्चिम बंगाल के बर्दवान में 1987 में हुआ था। उनके पिता का नाम आशीष कुमार मंडल है। 

संक्षिप्त परिचय 

  • पूरा नाम (Full name)- सुजाता मंडल खान 
  • जन्मस्थान (Birthplace)- कोलकाता में 
  • जन्म तिथि (Date of birth)- 1987 में 
  • उम्र (Age)- 34 वर्ष (2021 के अनुसार)
  • पिता का नाम (Father's name)- आशीष कुमार मंडल 
  • माता का नाम (Mother's name)- ज्ञात नहीं 

सुजाता मंडल की शिक्षा | Education qualification of Sujata Mondal Khan 


सुजाता ने पोस्ट ग्रेजुएट किया हुआ। उन्होंने बी.ए बंगाली में होनोर्स बर्दवान यूनिवर्सिटी से वर्ष 2008 में किया है। तथा एम.ए भी बंगाली में बर्दवान यूनिवर्सिटी से 2010 में किया हुआ है। 
  • बी.ए- बंगाली में होनोर्स बर्दवान यूनिवर्सिटी से 2008 में 
  • एम.ए- बंगाली में बर्दवान यूनिवर्सिटी से 2010 में 

सुजाता मंडल की शारीरिक उपस्थिति | Physical Appearance 


  • कद (Height)- 5'4" (लगभग)
  • बाल (Hair's color)- काले 
  • आँख (Eye's color)- काले 
इन नेताओं के बारे में भी पढ़े-

सुजाता मंडल के पति | Husband 


 सुजाता मंडल के पति का नाम 'सुमित्रा खान' जो भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा के नेता है। तथा पश्चिम बंगाल के बिशुनपुर लोकसभा क्षेत्र से संसद भी है। 

Sujata Mondal Khan: Age, Education, Husband, Biography
Sujata with her husband Saumitra ©thestatesman.com


यदि न्यूज़ रिपोर्ट्स की माने तो सुजाता मंडल के आल इंडिया तृणमूल कांग्रेस पार्टी में शामिल होने के कारन पति-पत्नी के बिच कुछ खिटपिट चल रही है। और यह मामला विवाह-विच्छेद (divorce) तक भी पहुंच गई है। 

सुजाता मंडल खान का राजनितिक करियर | Political Career 


सुजाता मंडल टीएमसी में आने से पहले 2019 में हुए लोकसभा में अपने पति सौमित्र खान के लिए चुनाव प्रचार कर रही थी। 

पर बंगाल के विधान सभा चुनाव में उन्होंने खुद मैदान में उतरने का मन बनाया और 21 दिसंबर 2020 के दिन आल इंडिया तृणमूल कांग्रेस (AITMC) में शामिल हो गई। 

सुजाता मंडल खान 2021 के बंगाल के विधान सभा चुनाव में आरामबाग विधान सभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रही है। 

सुजाता मंडल का नेट वर्थ | Net Worth 


सुजाता मंडल का नेट वर्थ लगभग 96 लाख रु है। 
  • Net Worth - ~ 96 lacs Rs 

सुजाता मंडल की सोशल प्रोफाइल्स 


इन नेताओं के बारे में भी पढ़े-

Saayoni Ghosh: Age, Education, Family, Boyfriend, Career, Biography in hindi

Saayoni Ghosh: Age, Education, Family, Boyfriend, Career, Biography in hindi


पश्चिम बंगाल की सायोनि घोष एक प्रसिद्ध एक्ट्रेस और राजनेत्री है। जो एक सिंगर भी है। हलाकि वह मार्च 2021 में तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गई और वह पश्चिम बंगाल के आसनसोल दक्षिण विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी प्रतिनिधितव 'अग्निमित्र पॉल' के विपक्ष चुनाव लड़ी पर उन्हें 1,800 वोटो से हार का सामना करना पड़ा। 

Saayoni Ghosh: Age, Education, Family, Boyfriend, Career, Biography
Saayoni Ghosh ©cinestaan.com



इस आर्टिकल में आप जानेंगे-
  • सायोनि घोष का परिचय 
  • सायोनि घोष की शिक्षा 
  • सायोनि घोष की शारारिक उपस्थिति 
  • सायोनि घोष का बॉयफ्रेंड/ पति 
  • सायोनि घोष का करियर 
  • ज़ायोनी घोष के बारे में कुछ रोचक बातें 
  • सायोनि घोष को मिले पुरस्कार 
  • सायोनि घोष की सोशल प्रोफाइल्स 

सायोनि घोष का परिचय | Saayoni Ghosh's Introduction 


सायोनि घोष का जन्म पश्चिम बंगाल के कोलकाता में 27 जनवरी 1993 को हुआ था। वह बंगाली हिन्दू परिवार से बिलोंग करती है। उनके पिता का नाम समर घोष है व उनकी माँ का नाम सुदीपा घोष है। 

Saayoni Ghosh: Age, Education, Family, Boyfriend, Career, Biography
Saayoni's family ©tellychakkar


संक्षिप्त परिचय 
  • पूरा नाम (Full name)- सायोनि घोष 
  • जन्म स्थान (Birth place)- पश्चिम बंगाल के कोलकाता में 
  • जन्म तिथि (Date of Birth)- 27 जनवरी 1993 
  • उम्र (Age)- 28 वर्ष (2021 के अनुसार) 
  • पिता का नाम (Father's name)- समर घोष 
  • माता का नाम (Mother's name)- सुदीपा घोष 

सायोनि घोष की शिक्षा | Saayoni Ghosh education 


सायोनि घोष ने अपनी स्कूली शिक्षा हीरेन्द्र लीला पतरनवीस स्कूल, कोलकाता से प्राप्त की। तथा उन्होंने स्नातक (Graduate) कोलकाता यूनिवर्सिटी से की है। 

  • स्कूली शिक्षा- हीरेन्द्र लीला पतरनवीस स्कूल, कोलकाता 
  • स्नातक- कोलकाता यूनिवर्सिटी 

सायोनि घोष की शारारिक उपस्थिति | Physical Apperance 


  • कद (Height)- ~ 5'5"
  • बालो का रंग (Hair's color)- हल्का भूरा 
  • आखों का रंग (Eye's color)- काला 

सायोनि घोष का बॉयफ्रेंड / हस्बैंड 


सायोनि ने अभी तक अपने किसी भी बॉयफ्रेंड का खुलाशा नहीं किया है। और न ही उन्होंने अभी तक शादी की है। 

सायोनि घोष का करियर | Career 


सायोनि ने अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत 17 वर्ष की उम्र में बंगाली टेलीविज़न सीरियल 'इछे दाना' से की। तथा इसके बाद उन्होंने 2010 में 'नोटोबोर नॉटआउट' नामक बंगाली फिल्म से टॉलीवूड फिल्म इंडस्ट्री में डेब्यू किया। तथा इसके बाद उन्होंने कई फिल्मो में काम किया जैसे-
  • शत्रु (2011)
  • अलिक सुख (2013)
  • गोल्पो होलो शेट्टी (2014)
  • एकला चोलो (2015)
  • बीतणूं (2015) 
  • बवाल (2015)
  • मायेर बीए (2015)
  • बाबर नाम गांधीजी (2015)
  • राजकहिनी (2015)
  • कृति रॉय (2016)
  • अंदर कहिनी (2017)
  • जोजो (2018)
  • रीयूनियन (2018)
  • रॉंग नंबर (2019)
  • अतिथि (2019)
  • नेटवर्क (2019)
  • प्रतिद्वंदी (2020)

Note:- उपरोक्त दी हुई फिल्मो की लिस्ट के अलावा सायोनि ने और कई फिल्मो में काम किया है। 

सायोनि घोष ने वर्ष 2015 में सबसे अधिक फिल्मो में काम किया। उन्होंने 2015 कुल 11 फिल्मो में काम किया। उस वर्ष उन्होंने सबसे पहली फिल्म 'एकला चोलो' में अभिनय किया जो लोगो द्वारा काफी पसंद किया गया। इसी तरह कुछ और फिल्मो में सायोनि के एक्टिंग को लोगो ने वाहा-वाही की जिससे सायोनि को प्रसिद्धि तथा प्रख्याति मिली।

सायोनि ने कुछ वेब सीरीज में भी अपना अभिनय किया है-
  • चरित्रहीन (2018)
  • अस्तेय लेडीज (2019)
  • चरित्रहीन 2 (2019)

Note:- उपरोक्त के अलावा कुछ और भी वेब सीरीज में उन्होंने काम किया हुआ है। 

सायोनि घोष के बारे में कुछ रोचक बाते-


  • यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है की सायोनि ने बंगाली फिल्म 'बोझेना शे बोझेना' फ़िल्म के लिए 'कोठीन गाने' को ऐश किंग के साथ गाया है। 
  • सायोनि ने कलकत्ता फुटबॉल लीग में 2013 और 2014 में जलशा मूवी के लाइव टेलीकास्ट के दौरान को-होस्ट किया था। 


सायोनि घोष को मिले अवार्ड्स | Awards 


  • वर्ष 2010 में 'टीटीआईएस बेस्ट एक्टर अवार्ड' बेस्ट एक्ट्रेस के लिए। 
  • वर्ष 2013 में 'मिर्ची म्यूजिक अवार्ड बंगला' , 'बोझेना शे बोझेना' फिल्म के कोठीन गाने के लिए। 
  • वर्ष 2016 में 'स्टार जलशा परिबार अवार्ड' , अमरा न ओरा कार्यक्रम में बेस्ट एंकरिंग के लिए। 

सायोनि घोष की सोशल प्रोफाइल्स | Social Profiles 


इन राजनेत्रियों के बारे में भी पढ़े-

अधिक आमदनी के लिए ऐसे करे मिर्च की खेती | Mirch ki kheti

अधिक आमदनी के लिए ऐसे करे मिर्च की खेती | Mirch ki kheti 


मिर्च सब्जी की एक ऐसी हिस्सा है जिसके बिना घर का कोई खाना बेस्वाद (फीका-फीका) लगता है। भारत में कोई भी ऐसी घर नहीं जहाँ आपको बिना मिर्च के सब्जी,दाल या अन्य चटक वाली चीजों को बनते हुए देखने को मिल जाये। हर जगह मिर्च का उपयोग बेधडल्ले  से किया जाता है। 

mirch ki kheti kab aur kaise kare puri jankari
Mirch ki kheti 


इसी कारन से मिर्च की मांग साल के बारहो महीने में रहती है और अधिक मांग तथा उत्पादन की कमी के कारण मिर्च की रेट भी बाज़ार में सदैव हाई रहती है। उत्पादन की कमी का कई सारे कारन है जैसे- अनुकूलित वातावरण न होना, मिटटी का प्रकार सही न होना,  पानी की कमी और सबसे महत्वपूर्ण बात मिर्च की खेती की सही जानकारी न उपलब्ध होना इसके अलावा और भी कारन हो सकते है जिसके बारे में हम आगे चर्चा करेंगे और आपके मन में पनप रहे मिर्च की खेती से सम्बंधित सभी प्रश्नो का जबाब देंगे। 

इस आर्टिकल में आप जानेंगे-

मिर्च की बुआई और रोपाई का समय/ मौसम 


किसी भी फसल को लगाने से पहले उस फसल की मौसम के बारे में ज्ञात होना अति आवश्यक है क्योंकि यदि मौसम की जानकारी नहीं होगी तो आप बुआई और रोपाई लेट-सेट से करोगे और इसका दुष्परिणाम यह होगा की फसल आपको सही आमदनी नहीं दे पायेगी। इसलिए मिर्च की खेती करने का समय मालूम होना जरुरी है। 

मिर्च की खेती मुख्यतः तीन समयों में की जाती है-
  1. आगत: यह मई और जून के महीने में बोई जाती है। 
  2. रबी : इसे जुलाई जुलाई और अगस्त में बोया जाता है। 
  3. बसंत: यह विशेषकर जनवरी और फरवरी में बोया जाता है। 
मिर्च के बीज को डायरेक्ट जाकर खेत में तो लगाया नहीं जा सकता है इसलिए इसे खेत में लगाने के दो चरणों से होकर गुजरना पड़ता है पहले बीज की बुआई करनी पड़ती है और जब बीज तैयार हो जाता है तब उसकी रोपाई खेत में की जाती  है। 

मिर्च की बीज को बोने के लिए इन बातो पर दे विशेष ध्यान-
  • बीज को लगाने के लिए आपको बिअरार (जहाँ बीज बोया जाता है) में कियारी बनानी पड़ेगी जिसके लिए निचे दिए तथ्यों पर दे विशेष ध्यान। 
  • सड़ी हुई गोबर के साथ खेत की जुताई कर ले। 
  • यदि खेत में चींटी या कोई और छोटे जीव है जो पौधों को नुकसान पंहुचा सकते है तो उनके लिए कियारी की मिटटी में 'हिंडोल पाउडर' को अच्छी तरह से छिड़काव कर दे और उसे मिला दे।
  • अब अपने अनुसार छोटे-छोटे कियारी बनाकर उनमे बीज को मिटटी की हलकी परत से दबा दे। 
  • आप कियारी के ऊपर पुवाल भी रख सकते है ताकि कोई पक्षी आकर उन बीजो को निगल ना जाये। 

मिर्च की खेती के लिए उपयुक्त मिटटी 


मिर्च की फसल के लिए मिटटी भी काफी हद तक असर डालती है यदि मिटटी मिर्च के लिए अनुकूल होगी तो वह आसानी से बिना किसी अधिक परिश्रम और अधिक खर्च के हो जाएगी। 

मिर्च की खेती के लिए - 'अच्छी जल निकास वाली हलकी दोमट मिटटी अच्छी मानी जाती है' 

हलाकि मैं जिस खेत में मिर्च की खेती  करता हूँ वह हलकी बलुई मिटटी है जिसमे पानी जरा भी नहीं ठहरता है हर तीसरे दिन मुझे सिचांई करनी पड़ती है। और मुझे खाद एवं उर्वरक तथा गोबर भी ज्यादा देना पड़ता है। 

मिर्च के बीज की उत्तम क्वालिटी 


यदि आपने तय कर ही लिया है की मिर्च की खेती करनी है तो सबसे पहला चरण यह आता है की मिर्च के बीज का चुनाव कैसे करे, किस प्रकार के बीज का चुनाव करे, क्या हाइब्रिड बीज का चुनाव करे या लोकल इत्यादि। 

मिर्च के बीज की उत्तम प्रभेद-
  • मसाला के लिए अच्छी मिर्च की क्वालिटी 
    1. पूसा सदाबहार- सबसे बेस्ट क्वालिटी बड़े-बड़े किसान भी इस बीज को लगाना प्रेफर करते है क्योंकि इससे उत्पादन अन्य सभी बीजो के मुकाबले सबसे अधिक होता है। 
    2. आंध्रज्योति 
    3. एन.पी - 46 
    4. पूसा ज्वाला 
    5. के.ए 2

  • सब्जी के लिए अच्छी बीज की क्वालिटी 
  1. कॉलिफोर्निआ वंडर 
  2. येलो वंडर 
  3. चाईंनिज़ जॉइंट 

मिर्च की खेती के लिए खाद और उर्वरक की मात्रा 


खेत की जुताई से पहले खेत में सड़ी हुई गोबर के छिड़काव के बाद ही खेत की जुताई करे इससे मृदा में ह्यूमस की मात्रा बढ़ जाती है। लेकिन फसल के अधिक उत्पादन के लिए केवल गोबर ही काफी नहीं है इसके अलावा आपको उसमे खाद और उर्वरक का भी प्रयोग करना होगा। 

यदि आप एक हेक्टेयर में मिर्च की खेती कर रहे है तो आपको 250 क्विन्टल गोबर खाद, यूरिया 100 किलोग्राम और 50 किलोग्राम पोटाश देने की आवश्यकता होगी। 

इन बातो पर दे विशेष ध्यान -

  • कियारी में पौधा तैयार हो जाने के बाद वह खेत में रोपने के लिए तैयार हो जाता है। 
  • अब आप खेत में कियारी बना ले और उस कियारी पर ही पौधों को लगभग 1 से 2 फीट की दुरी पर लगा दे। 
  • कियारी का निर्माण ऐसा करे ताकि सिचाई, खरपतवार नियंत्रण तथा फल की तुड़ाई के समय कोई परेशानी ना हो। 

मिर्च में लगने वाले किट और रोग तथा उसके उपचार 


कीटो से बचाव 

मिर्च में लगने वाले मुख्यो कीटो में दीमक, भूरा क्रिकेट और कजरा है जो मिर्च के लिए बिचड़ों की अवस्था में हानिकारक साबित होते है। अतः इनसे बचाव के लिए खेत के जुताई के समय ही बायफेनथ्रिन 10 ई.सी. 20 किलोग्राम बालू में मिलाकर प्रति हेक्टेयर की दर से छिड़क दे। 

मिर्च को गमले में लगाने का सही तरीका 


gamle mei mirch kaise lagaye
Gamle mei mirch kaise lagaye ?


जो लोग चाहते है की अपने घर में ही यानि की छत पर घर की बालकनी में गमलो में मिर्च की पौधों को लगाए तो वो इन स्टेप्स को एकाएक फॉलो करे-
  • मिटटी और सड़ी हुई गोबर का इंतजाम करे और उसे अच्छी तरह से मिला ले। 
  • गमले के छेद के जगह पर कुछ ऐसी चीज रखे जिससे मिटटी बाहर ना जाये पर अधिक पानी उस छेद से बहार चली जाये ताकि पौधों में फंगस न लगे और उसका जड़ सड़े नहीं। 
  • अपने आस-पास की नर्सरी या बीजभण्डार से पौधा या बीज को लाये 
  • और उसे गमले में लगा दे। यदि बीज है तो हलकी मिटटी की परत से दबा दे और पौधा है तो उसे थोड़ा सा गाड़ दे। 
  • जब पौधा थोड़ा बड़ा हो जाये तो आप यूरिया और सलफेट को मिलाकर दो-चार दाने गमले में छिड़क दे। ध्यान रहे ज्यादा छिड़कने से पौधे सुख सकते है। 
  • तथा कीटों और रोगो का नियंत्रण ऊपर बताये हुए उपचारो के मुताबिक करे। 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न 


1. बुआई के कितने दिनों के बाद रोपाई की जानी चाहिए ?

उत्तर : मिर्च के बीज के बुआई के लगभग 1 माह के बाद उसकी रोपाई की जानी चाहिए। 

2. एक हेक्टेयर खेत की लिए कितने बीजो की बुआई करनी चाहिए ?

उत्तर: एक किलोग्राम बीज एक हेक्टेयर के काफी होते है। 

3. मिर्च की खेत की सिचाई का समय अंतराल क्या है ?

उत्तर: इस फसल के लिए 10-12 दिनों पर सिचाई करनी चाहिए यह मौसम पर भी निर्भर करता है। बरसात में काम सिचाई की आवश्यकता होती है वही वही गर्मी में अधिक। 

4. ऊपर बताये गए बीजो में से कोई भी बीज, बीजभण्डार में उस नाम से उपलब्ध नहीं है, क्यों ?

उत्तर: उपरोक्त नाम सभी प्रजाति के नाम है इन प्रजाति के बीजो का उत्पादन कम्पनियाँ करती है और वह अपने ब्रांड-नेम के आधार पर बीज बेचती है। हलाकि थोड़ा जानकारी लेने पर उसके बारे विस्तार से जानकारी प्राप्त हो जाती है। VNR की मिर्च भी एक अच्छी प्रजाति की मिर्च है। जिसका उत्पादन काफी अच्छा है। 

5. मिर्च की खेती का उपज कितना होता है ?

उत्तर: जैसा की मैंने पहले ही आपको कहा था की अच्छी क्वालिटी की बीज लगाने से ही अच्छी उपज प्राप्त की जा सकती है। उसी प्रकार मिर्च की हरी फली 80-100 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होती है। 

इसे भी पढ़े-